पंचतंत्र की कहानियाँ | panchatantra stories in hindi

जैसा की हम सभी जानते है, हर देश का अपना एक साहित्य होता है और उस साहित्य में लोककथाओं (folk tales) का अपना एक विशेष महत्व होता हैं। हमारे भारत देश का panchatantra stories in hindi साहित्य विश्व में सबसे अधिक पुराना है और साथ ही इसकी लोककथाएँ panchatantra short stories in hindi with moral भी उतनी ही प्राचीन और रोचक है। पतंजलि योग सूत्र
इन्हीं लोक कथाओं में श्री विष्णु शर्मा द्वारा रचित संस्कृत का समय विजयी अमर ग्रंथ ‘पंचतंत्र’ भी है।
पंचतंत्र की कहानियों के मुख्यतः पांच भाग है। rich dad poor dad in hindi pdf

panchatantra short stories in hindi with moral

अगर आप पंचतंत्र panchatantra stories in hindi की साड़ी कहानियाँ डाउनलोड करके पढ़ना चाहते है तो आप इसे नीचे के लिंक से डाउनलोड भी कर सकते हैं।

पंचतंत्र panchatantra stories in hindi by Vishnu Sharma (PDF) डाउनलोड करे

यहां हम विशेषकर बच्चों के लिए पंचतंत्र की कहानियों का एक संग्रह दे रहे हैं :

पंचतंत्र की कहानियाँ (panchatantra stories in hindi)

panchatantra stories in hindi

चुहिया का स्वयंवर
मित्रता
शेर और चूहे की कहानी
बोलने वाली गुफा
ब्राह्मण और ठग
खटमल और कीड़ा
जैसे को तैसा
कौवे की चालाकी
रंगा सियार
नटखट बंदर
युक्ति
शेर और खरगोश
तीतर और समुद्र
एक और एक ग्यारह
राजा और बंदर
हंस और उल्लू
सारस और नेवला
कौए और उल्लू का बैर
ठग और साधु
एकता की शक्ति
ब्राह्मण और ब्रह्मराक्षस
बड़े नाम की महिमा

ठग और साधु

देवशर्मा नाम का एक ब्राह्मण था। वह दान में मिले कपड़ों को बेचकर उसने काफी ज्यादा धन इकट्ठा कर लिया था। अपने धन की सुरक्षा के लिए उन्हें एक पोटली में बांधकर उसे सदा अपने साथ रखता था। वह अन्य किसी दूसरे पर विश्वास नहीं करता था।

अष्टभूति नाम के एक चोर ने सदा उसे एक पोटली लिए देखकर सोचा कि यह अवश्य ही बहुमूल्य है इसके अंदर कुछ न कुछ तो जरूर मिलेगा, इसे चुराना चाहिए। पहले मैं इसका विश्वास जीतता हूं फिर ही इसे ठगने में कामयाब हो पाउँगा ।

एक दिन वह उस ब्राह्मण देवशर्मा के पास गया और बोला, ‘ हे संत, आपका अभिवादन है। मैं अनाथ हूं। मुझे अपना शिष्य स्वीकार करें। साडी उम्र मैं आपकी सेवा करूंगा।’ देवशर्मा ने बहुत प्रसन्न होकर कहा, ‘ठीक है, मैं तुम्हें शिष्य बनाता हूं किन्तु एक शर्त है की तुम मेरी पोटली को हाथ भी नहीं लगाओगे।’

panchatantra stories in hindi

चोर अब देवशर्मा के साथ स्वामीभक्त शिष्य की भांति रहने लगा। एक दिन किसी पुराने शिष्य का निमंत्रण स्वीकार कर दोनों गुरु चेला उसके घर पहुंचे। वहां कमरे में सोने की मुद्रा पड़ी हुई मिली। चोर चोर अष्टभूति ने मालिक का विश्वास जीतने के लिए कहा, ‘श्रीमान् क्षमा करें, यह मुहर तो हमारी नहीं है। हमें इसे दे देना चाहिए।‘

चोर अष्टभूति की ईमानदारी से देवशर्मा अभिभूत होकर अपने मन नही मन सोचने लगा, ‘यह तो बहुत ही ईमानदार व्यक्ति है। अब मुझे इसका भय नहीं है। यह मेरा धन नहीं चुराएगा।‘

उस शिष्य के घर से वापस लौटते समय एक नदी पड़ी थी तो देवशर्मा ने नहाने की इच्छा व्यक्त करते हुए कहा, ‘पुत्र! मैं स्नान करना चाहता हूं। तुम मेरी गठरी और पोटली का ख्याल रखो।‘ यह कहकर देवशर्मा नहाने चला गया।

चोर अष्टभूति ने मौके का फायदा उठाकर धन की पोटली उठाई और चंपत हो गया।

नदी के दूसरे किनारे पर दो बकरियाँ आपस में लड़ रही थीं।

देवशर्मा उसी नज़ारे को देख रहा था। नहाकर जब वह नदी किनारे आया तो अपनी पोटली उस चोर अष्टभूति को वहां न पाकर उसने पहले बहुत पुकारा फिर समझ गया कि वह ठगा जा चूका है | एक अनजान व्यक्ति पर विश्वास करने के कारण उसे धोखा मिला था, उसकी सारी कमाई सम्पति जा चुकी थी।

panchatantra stories in hindi शिक्षा (Moral of the Story): अति शीघ्र ही किसी पर विश्वास नहीं करना चाहिए। panchatantra short stories in hindi with moral

एकता की शक्ति

एक दिन एक तालाब के किनारे मंथरक (कछुआ), लघुपतनक (कौआ) और हिरण्यक (चूहा) बैठे आपस में कुछ बातें कर रहे थे। तभी शिकारी से अपनी जान बचाता हुआ चित्रांग (हिरण) वहाँ आया और उनका मित्र बनकर उनके साथ ही रहने लगा।

एक दिन हिरण जबअपना खाना ढूंढकर शाम को जब वापस नहीं आया तो उसके सभी मित्र चिंतित हो गए। सबकी सलाह से मित्र कौए ने आसमान में उड़कर उसे ढूँढना शुरू किया। हिरण ने जब अपने मित्र कौए को देखा तो चिल्लाकर बोला, “शिकारी के आने से पहले कृपया करके जाल से मुझे निकालो।”

कौआ दोस्तों के पास पुनः पहुंचा। उन्हें सारी बात उन्हें बताई और चूहे को उस हिरण के पास ले गया। अपने पैने दाँतों से चूहे ने शिकारी का जाल काट दिया। इसी बीच धीरे धीरे रेंगता-रेंगता कछुआ भी वहां पहुंच गया था।

panchatantra stories in hindi

तभी वह शिकारी आया और जाल कटा हुआ तथा हिरण को गायब देखा। शिकारी को देखते ही सभी जान बचाकर भाग खड़े हुए। कौआ उड़ गया, चूहा पत्थरों के पीछे छुप गया और हिरण ने जंगलों की ओर छलांग लगाई परन्तु कछुआ बेचारा पकड़ा गया। उसे थैले में बंद कर वह शिकारी चल पड़ा।

अब मित्र कछुए को बचाने की सलाह की गई। तो कौए ने उपाय बताया, “हिरण भाई, तुम तालाब के पास जाकर मरने का नाटक करो। मैं तुम्हारी आँख निकालने का नाटक करूँगा। शिकारी तुम्हें मरा हुआ समझकर, थैला छोड़कर पकड़ने आ जाएगा। तुम वहां से चौकड़ी भरकर भाग लेना। तभी हमारा चूहा थैला कुतरकर कछुए को बचा लेगा।”

कौए के बताए गए उपाए के अनुसार हिरण मृतप्राय लेट गया। शिकारी ने उसे मृत जानकर थैला रखा और उस हिरण को लेने दौड़ा। शिकारी को पास आता देखकर हिरण उठ गया और बिजली की गति से जंगलों में भाग गया। निराश शिकारी वापस अपने थैलों के पास आ गया । तब तक थैला कुतरा हुआ था और कछुआ गायब… उसके दुःख की सीमा न रही।

इधर, चारों मित्र हिरण्यक, मन्थरक, लघुपतनक और चित्रांग फिर से साथ होकर बहुत ही प्रसन्न थे।

panchatantra stories in hindi शिक्षा (Moral): संगठन में बहुत शक्ति होती है।

अन्य किताबे-

    1. रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Ramcharitmanas in Hindi pdf Download free
    2.  श्रीमद्भगवद्‌गीता | Shrimad Bhagwat Geeta in Hindi PDF

Tags- panchatantra stories, panchatantra stories in hindi, stories of panchatantra in hindi, panchatantra stories in hindi pdf, panchatantra short stories in hindi with moral

 

Latest Post

Leave a Comment

Your email address will not be published.