गरुड़ पुराण हिंदी PDF Free Download ऋषि वेदव्यास | Garud Puran Written by Rishi Vedvyas In Hindi PDF Download

गरुण पुराण

हिंदू धर्म और अपनी संस्कृति से विमुख हो रहे लोगों के लिए जरूरी हैं कि लोग बाग अपनी हिंदी संस्कृति, सभ्यता और आध्यात्मिक जीवन को जानें। वेद और पुराण को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से हम अपने आध्यात्मिक जीवन से पुनः हिंदू संस्कृति को फैला सकते हैं। आज के इस मॉडर्न जमाने में हमारे संस्कृति, सभ्यता और आध्यात्मिकतापूर्ण जीवन कहीं खो गया हैं। आज जरुरत है तो हम सबको इसे फिर से जगाने की। आइए पढ़ते हैं गरुण पुराण के बारे में :

पुस्तक book : गरुड़ पुराण इन हिंदी

लेखक author : ऋषि वेदव्यास

पुस्तक की भाष language : हिंदी (संस्कृत अनुवाद )

 पेज page : 275 

हिन्दू धर्म के अनुसार जब किसी के घर में किसी की मृत्यु हो जाती है तो 13 दिन तक गरूड़ पुराण का पाठ रखते है। शास्त्रों के अनुसार कोई आत्मा तत्काल ही दूसरा जन्म धारण कर लेती है। किसी को 3 दिन तो किसी को 10 से 13 दिन तक भी लग जाते हैं और किसी को एक से सवा महीना लग जाता हैं। लेकिन जिसकी यादाश पक्की, मोह गहरा या अकाल मृत्यु मरा है तो उसे दूसरा जन्म लेने के लिए कम से कम एक साल लग जाता है।

तीसरे वर्ष उसका अंतिम तर्पण किया जाता है। फिर भी कई ऐसी आत्माएं होती हैं जिन्हें मार्ग नजर नहीं आता इसलिए वे हमेशा भटकती रहती है।

आओ जानते हैं कि लोगों के मरने के बाद क्यों रखते है गरुड़ पुराण का पाठ।

एक बार पक्षी राज गरुड़ ने भगवान विष्णु से, प्राणियों की मृत्यु, यमलोक यात्रा, नरक-योनियों तथा सद्गति के बारे में अनेक गूढ़ और रहस्य से भरे प्रश्न पूछे। गरुण के इन्हीं प्रश्नों का उत्तर भगवान विष्णु जी ने दिया। इन प्रश्न और उत्तर का जो सिलसिला चला वही बाद में गरुड़ पुराण के नाम से मशहूर हुआ।

गरुण पुराण के अंदर मृत्यु से पहले और बाद की स्थिति के बारे में लिखा गया है इसलिए इस पुराण को मृतक को सुनाया जाता है।

13 दिनों तक मृत व्यक्ति अपनों के बीच में ही रहता है। इस दौरान गरुढ़ पुराण का पाठ रखने से वह स्वर्ग-नरक, गति, सद्गति, अधोगति, दुर्गति आदि तरह की गतियों के बारे में जान जाता है।

आगे की यात्रा में उसे किन-किन बातों का सामना करना पड़ेगा, कौन से लोक में उसका जाना हो सकता है। यह सब बातें वह गरुड़ पुराण सुनकर जान जाता है।

गरुड़ पुराण हिंदी Garud Puran

जब मृत्यु के बाद घर में गरुड़ पुराण का पाठ होता है तो इस बहाने मृतक के परिजन यह जान लेते हैं कि बुराई क्या है और सद्गति किन कर्मों से मिलती है ताकि मृतक और उसके परिजन दोनों ही यह अच्छी तरह से जान लें कि उच्च लोक की यात्रा करने के लिए कौन से कर्म करने चाहिए।

गरुड़ पुराण हमें अच्छे कर्मों के लिए प्रेरित करता है। अच्छे कर्मों के करने से ही हमें सद्गति और मुक्ति की प्राप्ति हो सकती है।

गरुड़ पुराण के अंदर व्यक्ति के कर्मों के आधार पर दंड स्वरुप मिलने वाले विभिन्न नरकों के बारे में भी बताया गया है।

गरुण पुराण को हमें सुनकर उसके उपदेशों को जीवन में उतारना चाहिए। आत्मज्ञान को जानना ही गरुड़ पुराण का मुख्य विषय है।

गरूड़ पुराण में उन्नीस हजार श्लोक लिखे हुए हैं। इनमें से सात हजार श्लोक में गरूड़ पुराण में ज्ञान, धर्म, नीति, रहस्य, आत्म, स्वर्ग, नर्क और अन्य लोकों का के बारे में देखने को मिलता है।

इसमें भक्ति, ज्ञान, वैराग्य, निष्काम कर्म की महिमा के साथ यज्ञ, दान, तप तीर्थ जैसे शुभ कर्मों में सर्व साधारण  के लिए अनेक लौकिक और पारलौकिक फलों का जिक्र भी किया गया है।

यह सभी बातें मृतक और उसके परिवार के लोग जानकर अपने जीवन में उतारके जीवन को सुंदर और मनमोहक बना सकते हैं।

इसके अलावा इसके अंदर आयुर्वेद, नीतिसार जैसे विषयों के जिक्र के साथ मृत जीव के अन्तिम समय में किए जाने वाले कर्मों का विस्तार से जिक्र भी किया गया है।

कहते हैं कि गरुढ़ पुराण का पाठ सुनने मात्र से ही मृतक आत्मा को शांति की प्राप्त हो जाती है और उसे मुक्ति का मार्ग भी पता चल जाता है।

वह अपने सारे संताप को भूलकर प्रभु मार्ग पर चलकर सद्गति प्राप्त कर या तो पितर लोक में चला जाता है या दोबारा से मनुष्य योनी में जन्म ले लेता है। उसे भूत प्रेत बनकर भटकना नहीं पड़ता ।

Garuna Purana

It is necessary for the people who are turning away from the Hindu religion and their culture that people should know their Hindi culture, civilization, and spiritual life. By including Vedas and Puranas in our daily routine, we can spread Hindu culture again through our spiritual life. In today’s modern era, our culture, civilization, and spiritual life have been lost somewhere. Today there is a need for all of us to rekindle it. Let us read about Garuda Purana:

According to the Hindu religion, when someone dies in someone’s house, Garuda Purana is recited for 13 days. According to the scriptures, a soul takes another birth immediately. Some take 3 days, some take 10 to 13 days and some take one to 1.25 months. But the one whose memory is strong, whose attachment is deep, or dies an untimely death, then it takes at least one year to take another birth.

In the third year, his final oblation is performed. Still, there are many such souls who do not see the path, so they always wander.

Come let’s know why people keep the lesson of Garuda Purana after their death.

Once the bird King Garuda asked Lord Vishnu many mysterious and mysterious questions about the death of creatures, Yamlok Yatra, hell-vaginas, and salvation. Lord Vishnu answered these questions of Garuda. The series of questions and answers that followed later became famous as Garuda Purana.

The situation before and after death has been written inside the Garuda Purana, so this Purana is recited to the deceased.

For 13 days the dead person remains in the midst of his near and dear ones. During this, by reciting Garuda Purana, he gets to know about the motions like heaven-hell, speed, salvation, degradation, misery etc.

What things will he have to face in the journey ahead, in which world he can go. He knows all these things after listening to Garuda Purana.

When the Garuda Purana is recited in the house after death, on this pretext, the relatives of the deceased come to know what is evil and by what deeds one attains salvation, so that both the deceased and his relatives know very well that the life of the higher world is going on. What deeds should be done to travel.

Garuda Purana inspires us for good deeds. We can attain salvation and salvation only by doing good deeds.

Inside the Garuda Purana, it has also been told about the different hells that are found as punishment on the basis of the deeds of the person.

After listening to Garuda Purana, we should implement its teachings in life. Knowing the Self is the main theme of Garuda Purana.

Nineteen thousand verses are written in Garuda Purana. In these seven thousand verses, knowledge, religion, policy, mystery, self, heaven, hell and other worlds are seen in Garuda Purana.

श्रीमद्भगवद्‌गीता bhagavad gita pdf in hindi free download

In this, along with the glory of devotion, knowledge, quietness, selfless work, auspicious deeds like Yagya, charity, penance pilgrimage, many cosmic and otherworldly fruits have also been mentioned for the common people.

Knowing all these things, the people of the deceased and his family can make life beautiful and attractive by bringing them into their lives.

Apart from this, along with the mention of subjects like Ayurveda, Nitisar, the deeds to be done in the last moments of the dead soul have also been mentioned in detail.

It is said that just by listening to the recitation of Garuda Purana, the deceased soul attains peace and also knows the path of salvation.

Forgetting all his sorrows, he walks on the path of God and attains salvation, either goes to the ancestral world or takes birth again in a human form. He doesn’t have to wander like a ghost.

PDF डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे