munshi premchand ki kahani | प्रेमचंद की 200 कहानियों का संग्रह

munshi premchand ki kahani munshi premchand ka jeevan parichay मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand  का जन्म बनारस वाराणसी के बाहरी इलाके में लमही नामक गाँव में कायस्थ माता-पिता से हुआ था। उनकी माँ का निधन हो गया जब premchand आठ साल का था और उनके पिता ने जल्द ही दूसरा विवाह कर लिया। premchand पहले गोरखपुर में एक में स्कूल गए जहाँ उनके पिता तैनात थे।

धनपत राय श्रीवास्तव, जो की उनका वास्तविक था, को नवाब कहा जाता था और उन्होंने ‘नवाब राय’ नाम से अपने जीवन के प्रथम लेखन को प्रकाशित किया।

munshi premchand ka jeevan parichay

 

munshi premchand ka jeevan parichay लेखन की उनकी अद्भुत विपुल शैली ने भारत में लघु कथाओं की शैली को आकार देने में बहुत ही व्यापक योगदान दिया। इन लघु कथाओं को लिखते हुए, प्रेमचंद munshi premchand ने इस अवसर का इस्तेमाल सामाजिक मामलों जैसे कि महिलाओं की दुदयनीय दशा, नैतिक दिवालियापन, अंध विश्वास, जातिगत अन्याय, पितृसत्ता और कई अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर किया। munshi premchand ka jeevan parichay

पतंजलि योग सूत्र patanjali yoga sutras pdf

यहाँ इस लेख में मुंशी प्रेमचंद munshi premchand जी द्वारा लिखी गयी काफी रचनायें एकत्रित की गयी हैं और आपको सौपने का प्रयास किया गया है | munshi premchand प्रेमचंद के उपन्यास और प्रेमचंद की कहानियाँ (Premchand Ki Kahaniya in Hindi), सभी के लिंक आपको नीचे मिल जायेंगे जिससे आपको इसे पढ़ने में आसानी हो| 

 

प्रेमचंद के उपन्यास | munshi premchand ki kahani

 

munshi premchand के सबसे महान चार उपन्यासों में सेवासदान, रंगभूमि, कर्मभूमि, और गोदान को माना जाता है। उनका अंतिम और अति विशिष्ट हिंदी उपन्यासों में से एक है – गोदान। 

प्रेमचंद munshi premchand लेखन या अध्ययन के उद्देश्यों के लिए देश से बाहर कभी भी नहीं गए थे और कारण है  कि वह विदेशी साहित्यकारों के बीच कभी प्रसिद्ध नहीं हो सके |

अन्य किताबे- पतंजलि योग सूत्र

  1. रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Ramcharitmanas in Hindi pdf Download free

8 Premchand Ke Upanyas 

 

लिंक और कुछ विवरण  के साथ नीचे दिए गये हैं.

1. कर्मभूमि

1930 के दशक केशुरुआत  में भारत में गरीब और अनपढ़ लोगों का एक बड़ा समूह शामिल था, जो अमीर या शक्तिशाली, जाति या धर्म के बावजूद शोषित वर्ग से थे। लेखक munshi premchand  की इन गरीबों और मेहनतकश जनता के प्रति अपार सहानुभूति है जो उनके लेखन में स्पष्ट रूप से दिखाई देती  है। यह इस पृष्ठभूमि के बिलकुल खिलाफ है, कि प्रेमचंद ने कर्मभूमि लिखी थी।

munshi premchand द्वारा रचित कर्मभूमि उपन्यास पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

2. निर्मला

लेखक प्रेमचंद एक लड़की की इस कहानी के माध्यम से दहेज प्रथा पर तीखा हमला करते हैं, जो अपने पिता की हत्या के कर दिए जाने के बाद अपने पिता की उम्र के व्यक्ति से शादी करती है। उसके जीवन के शेष बचे हिस्सों के लिए, इस विपदा को दूर करने के लिए,  संघर्ष करने के बाद, उसके दुख की एक कथा लिखी है।

munshi premchand रचित Nirmala Upanyas पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

3. गोदान

गोदान प्रेमचंद munshi premchand जी का सबसे प्रसिद्ध उपन्यास है। उत्तर भारतीय गांव में आर्थिक और सामाजिक संघर्ष शानदार ढंग से होरी, एक गरीब और लाचार किसान और उसके परिवार के अस्तित्व और आत्म-सम्मान के मध्य संघर्ष की कहानी में कैद हैं। होरी वह प्रत्येक कुछ करता है जो वह अपने जीवन की इच्छा को पूरा करने के लिए कर सकता है।

अपने समय के कई अनेको हिंदुओं की तरह, उनका मानना है कि मरने से पहले पूर्व एक ब्राह्मण को गाय का उपहार अर्थात दान देने से उसे मोक्ष प्राप्त करने में मदद मिलेगी। स्वतंत्रता से पहले के हमारे भारत के एक आकर्षक परिचय, मानव दस्तावेज और औपनिवेशिक इतिहास को आगे बढ़ाता है।

munshi premchand ki kahani में सबसे प्रिसिद्ध उपन्यास “गोदान” पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

4. गबन

munshi premchand ki kahani में यह इस बारे में है कि कैसे एक पुरुष और एक महिला, दोनों धनवान वैभव और आराम की ज़िंदगी चाहते हैं, विभिन्न परिस्थितियों में अनेको  प्रतिक्रिया करते हैं, जब विकल्पों और उनकी लागतों का आमना सामना करना पड़ता है। यह सभी पात्रों के लिए अनेक संघर्ष, प्रतिदान और वास्तविकताओं के जीवन के बारे में प्रचलित कहानी है।

दूसरी ओर, munshi premchand प्रशासनिक भ्रष्टाचार, नौकरशाही की सुस्ती, पुलिस की अमानवीयता, और मध्यम वर्ग की अनेक इच्छाशक्ति और सत्यनिष्ठा के साथ संघर्ष करते हुए मध्यवर्ग के माध्यम से अपने समय की तस्वीर को बहुत ही बारीकी से चित्रित करते हैं।

gaban (novel) पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

5. अलंकार

महान उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद munshi premchand  की यह कहानी आध्यात्मिकता, धर्म और नैतिकता के बारे में बहुत कुछ बताती और दिखाती है। उन दिनों नील नदी के तट पर अनेको तपस्वी रहते थे। थोड़ी-थोड़ी सी दूरी पर दोनों ओर कितनी झोपड़ियाँ बनी थीं। तपस्वी इन्हीं में एकांत अर्थात अकेले में रहते थे और जरूरत पड़ने पर एक-दूसरे की सहायता करते थे। इन झोपड़ियों के बीच में जहाँ चर्च होते थे।

पराह: क्रॉस का आकार सभी चर्चों पर स्पष्ट दिखाई दे रहा था। धर्म के उत्सव पर दूर-दूर से संत आते थे। नदी के साथ जहां मठ भी होते थे। जहाँ तपस्वी लोगों ने अकेले ही छोटी गुफाओं में सिद्धि प्राप्त करने की कोशिश की थी |

munshi premchand रचित Alankar Upanyas पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

6. प्रेमा

एक बहुत अमीर व्यक्ति सामाजिक सुधारों के कारण में उपस्तिथ होने का निर्णय करता है और धार्मिक कट्टरपंथियों से टकराता है। वह एक विधवा से शादी करने जैसा फैसला करता है और धार्मिक कट्टरपंथियों से बड़ा ही भयंकर टकराव करता है। ब्रिटिश भारत के समय में बनी एक बहुत अच्छी कहानी और रूढ़िवाद के कारण होने वाले मुद्दे पर यह उपन्यास है |

munshi premchand द्वारा रचित यह उपन्यास पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

7. रंगभूमि

जाति पदानुक्रमों की अमानवीयता बर्बरता और महिलाओं की ऐसी दयनीय स्तिथि ने उनके आक्रोश को भड़का दिया और ये उनके कई उपन्यासों का विषय बना | लेखक द्वारा रचित अपने कई उपन्यासों में, रंगभूमि सबसे अधिक औपनिवेशिक शासन के तहत किसान समाज और कृषि के भारी विनाश को दर्शाती है।

इसे पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

8. प्रतिज्ञा

यह उपन्यास महान भारतीय संस्कृति के एक ऐसे युग जमाने का वर्णन करता है जब विधवा पुनर्विवाह इतना प्रचलित नहीं था। कहानी काफी अच्छी है और किसी भी प्रकार से अतिरंजित नहीं है, उस समय के पात्रों का जीवन और परिस्थितियां जो लेखक मुंशी प्रेमचंद के कार्य की प्रकृति की ‘छड़ी’ साबित होती हैं।

इसे पढने के लिए >> यहाँ जाएँ.

145 Premchand Ki Kahaniya in Hindi munshi premchand ki kahani

 

प्रेमचंद की कहानियों की यह सूची (this List of Premchand Stories in Hindi). किसी भी कहानी को पढ़ने के लिए उस पर सिर्फ  क्लिक करें. 

समय के साथ ये Premchand Ki Kahaniya आगे भी  बढ़ाते रहेंगे. नये लिंक मिलते ही तुरंत सूची अपडेट कर दी जायेगी. तब तक इन्हें पढ़िए और शेयर कीजिये.

 

प्रेमचंद की कहानियाँ | Premchand Stories in Hindi (1-100)

 

  1. नमक का दारोगा
  2. विजय
  3. कौशल
  4. नरक का मार्ग
  5. दो बैलों की कथा
  6. पूस की रात
  7. पंच- परमेश्वर
  8. धिक्कार
  9. एक आंच की कसर
  10. नैराश्य लीला
  11. उद्धार
  12. वफ़ा का खंजर
  13. माता का ह्रदय
  14. नेउर
  15. वासना की कड़ियॉँ
  16. अपनी करनी
  17. स्त्री और पुरुष
  18. शूद्र
  19. निर्वासन
  20. लैला
  21. एकता का सम्बन्ध पुष्ट होता है
  22. इज्जत का खून
  23. घमण्ड का पुतला
  24. तेंतर
  25. देवी
  26. होली की छुट्टी
  27. आधार
  28. मुबारक बीमारी
  29. नैराश्य
  30. परीक्षा
  31. पुत्र-प्रेम
  32. गैरत की कटार
  33. स्वर्ग की देवी
  34. राष्ट्र का सेवक
  35. वैराग्य
  36. काशी में आगमन
  37. बेटों वाली विधवा
  38. शादी की वजह
  39. डिप्टी श्यामाचरण
  40. दण्ड
  41. शिष्ट-जीवन के दृश्य
  42. नादान दोस्त
  43. अमृत
  44. विश्वास
  45. बड़े बाबू
  46. प्रतिशोध
  47. मन का प्राबल्य
  48. अलग्योझा
  49. मंदिर और मस्जिद
  50. क़ातिल
  51. विदुषी वृजरानी
  52. ईदगाह
  53. प्रेम-सूत्र
  54. प्रेम का स्वप्न
  55. खुदी
  56. सैलानी बंदर
  57. नब़ी का नीति-निर्वाह
  58. आख़िरी तोहफ़ा
  59. वरदान
  60. माधवी
  61. मॉँ
  62. तांगेवाले की बड़
  63. बडे भाई साहब
  64. मोटेराम जी शास्त्री
  65. सखियाँ
  66. नशा
  67. कवच
  68. नये पड़ोसियों से मेल-जोल
  69. सभ्यता का रहस्य
  70. स्‍वामिनी
  71. दूसरी शादी
  72. ईर्ष्या
  73. विदाई
  74. शांति
  75. पर्वत-यात्रा
  76. निष्ठुरता और प्रेम
  77. सांसारिक प्रेम और देशप्रेम
  78. प्रतापचन्द्र और कमलाचरण
  79. कप्तान साहब
  80. तिरसूल
  81. विक्रमादित्य का तेगा
  82. नसीहतों का दफ्तर
  83. राजहठ
  84. त्रियाचरित्र
  85. मतवाली योगिनी
  86. समस्या
  87. ठाकुर का कुआं
  88. सौत
  89. सुशीला की मृत्यु
  90. दो सखियां
  91. पैपुजी
  92. कमलाचरण के मित्र
  93. आत्म-संगीत
  94. गुल्ली-डंडा
  95. क्रिकेट मैच
  96. कायापलट
  97. एक्ट्रेस
  98. बुढ़ी काकी
  99. देवी
  100. विरजन की विदा

प्रेमचंद की कहानियाँ | Premchand Ki Kahaniya in Hindi

munshi premchand ki kahaniyan

  1. सोहाग का शव
  2. झांकी
  3. ज्योति
  4. कोई दुख न हो तो बकरी खरीद ला
  5. भ्रम
  6. ईश्वरीय न्याय
  7. शेख मखगूर
  8. स्नेह पर कर्त्तव्य की विजय
  9. मंत्र
  10. बोहनी
  11. आत्माराम
  12. बड़ें घर की बेटी
  13. जेल
  14. पत्नी से पति
  15. शराब की दूकान
  16. जुलूस
  17. मैकूसमर-यात्रा
  18. दुर्गा का मन्दिर
  19. शोक का पुरस्कार
  20. कमला के नाम विरजन के पत्र
  21. प्रायश्चित
  22. दिल की रानी
  23. दुनिया का सबसे अनमोल रतन
  24. कर्तव्य और प्रेम का संघर्ष
  25. ममता
  26. धिक्‍कार
  27. बंद दरवाजा
  28. मिलाप
  29. मनावन
  30. अंधेर
  31. दु:ख-दशा
  32. इस्तीफा
  33. स्वांग
  34. आखिरी मंजिल
  35. आल्हा
  36. सिर्फ एक आवाज
  37. नेकी
  38. बॉँका जमींदार
  39. अनाथ लड़की
  40. कर्मों का फल
  41. शांति
  42. बैक का दिवाला
  43. शंखनाद
  44. नाग पूजा
  45. कफ़न

latest posts

1 thought on “munshi premchand ki kahani | प्रेमचंद की 200 कहानियों का संग्रह”

  1. Pingback: नमक का दरोगा PDF | Namak Ka Daroga by Munshi Premchand PDF Download

Leave a Comment

Your email address will not be published.