बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना | उद्देश्य, लाभ, ऑनलाइन आवेदन |

बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना | उद्देश्य, लाभ, ऑनलाइन आवेदन |

Table of Contents

बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना | उद्देश्य, लाभ, ऑनलाइन आवेदन |

हमारा समाज आज भी रूढ़िवादी सोच से ऊपर नहीं उठ सका है, हमारा समाज आज भी गैर जाति में किए गए विवाह को स्वीकार नहीं करता है, इस विवाह के प्रति समाज का दृष्टिकोण सकारात्मक नही है। इसलिए केंद्र सरकार और बिहार सरकार सामाजिक न्याय एवं आधिकारिकता मंत्रालय के अंतर्गत डॉक्टर अंबेडकर फाउंडेशन के मदद से जातिवादी को खत्म करने के लिए अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुवात की है। इस योजना के तहत Intercaste Marriage करने वाली नवविवाहित दंपति को प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य नवविवाहित जोड़े द्वारा उठाए गए अंतरजातीय विवाह के सामाजिक रूप से साहसिक कदम की सराहना करना और जोड़े को अपने विवाहित जीवन के प्रारंभिक चरण में बसने में वित्तीय सहायता के रूप में प्रोत्साहन देना। ताकि समाज में जातीय समरसता बना रहे। नवविवाहित जोड़ा को लोग समाज में सम्मान दे। नवविवाहित जोड़े को समाज में सहायक फैसला बताए।

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना बिहार 2022 में मिलने वाली प्रोत्साहन राशि

इस योजना के अंतर्गत पात्र नवविवाहित जोड़े को कुल दो लाख पचास हजार रूपए का वित्तीय राशि प्रोत्साहन के रूप में नवविवाहित जोड़े को दी जाएगी और समाज से भी अपेक्षा होगी की विवाहित जोड़े को समाज में स्थान दें और सक्षम बनाएं। इसके लिए आवेदक को ₹10 के नॉन जुडिशल स्टांप पेपर पर एक प्री स्टांपड रिसिप्ट जमा करनी होगी। इसके बाद उनके खाते में आरटीजीएस या एनईएफटी के माध्यम से डेढ़ लाख रुपए की एकमुश्त राशि प्रदान किए जाएंगे। बाकी बची हुई राशि को फिक्स्ड डिपॉजिट कर दिया जाएगा। यह जमा की गई राशि लाभार्थियों को 3 वर्ष के बाद पर ब्याज के साथ प्राप्त होगी।

Dr. Ambedkar scheme Inter- caste marriage के पात्रता 

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन करने से पहले आपको इस की पात्रता जान देना आवश्यक है, जो निम्नलिखित है,

  •    इस योजना के लाभार्थी को बिहार का मूल निवासी होना आवश्यक है।
  •  विवाह कानून के अनुसार वैध होना चाहिए और हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत पंजीकृत होना चाहिए।
  • दूसरी या बात की शादी पर कोई पुरुष साहन राशि उपलब्ध नहीं है।
  • विवाह के गीत वर्ष के भीतर ही प्रोत्साहन राशि के लिए दावा मान्य होगा।
  • इस योजना के अंतर्गत प्रोत्साहन देने का प्रस्ताव या तो मौजूदा सांसद या विधानसभा सदस्य, जिला कलेक्टर/  मजिस्ट्रेट द्वारा अनुशंसित किया जाना चाहिए।
  • इस योजना के तहत अंतर्जातीय विवाह के अर्थ है, ऐसा विवाह जिसमे पति या पत्नी में से एक अनुसूचित जाति का हो और दूसरा गैर- अनुसूचित जाति का हो।

Bihar Antarjatiya Vivah Protsahan Yojana 2022

योजना बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना
किस सरकार ने आरंभ की बिहार सरकार
लाभार्थी कौन बिहार के नागरिक
उद्देश्य  क्या है अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहित करना
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें
वर्ष 2022
राज्यबिहार
आर्थिक सहायता2.5 लाख रुपए
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना से संबंधित आवश्यक दस्तावेज

इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए नवविवाहित जोड़ा को कुछ आवश्यक दस्तावेज को आवेदन पत्र के साथ संलग्न करना पड़ेगा जो निम्नलिखित है,

  • आवेदन पत्र
  • अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र
  • ओबीसी / एसटी / डीएनसी /ओसी / सामान्य जाति प्रमाण पत्र
  • हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के अलावा अन्य मामले में धर्म प्रमाण पत्र।
  • विवाह के एक वर्ष के भीतर आवेदन जमा करने की तिथि।
  • पहला विवाह शपथ पत्र / प्रमाण पत्र
  • सांसद /विधायक की सिफारिश
  • आधार कार्ड / पैन कार्ड
  • बैंक खाता का विवरण ( वर – वधू का संयुक्त खाता)
  • विवाह का संयुक्त फोटो 

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना आवेदन कैसे करे?

  •   इस योजना में आवेदन करने के लिए आवेदन ऑफलाइन मांगे जा रहे है, इसके लिए आपको आधिकारिक वेबसाइट ambedkarfoundation.nic.in/ पर जाना होगा। या फिर संबंधित विभाग से आवेदन पत्र प्राप्त कर सकते है।
  • Ambedkar foundation.nic.in पर जाने के बाद आपके सामने Home page खुलेगा। यहां से आप आवेदन फॉर्म को डाउनलोड कर सकते है।
  • आवेदन फॉर्म को डाउनलोड करने के बाद आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी भरनी होगी। उसके बाद सभी दस्तावेज को साथ में संलग्न करने के बाद संबंधित विभाग के कार्यालय में जमा करना होगा ।
  • कार्यालय में जमा करने के बाद ही आपकी आवेदन प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी।

मेरी पहचान पोर्टल ऑनलाइन आवेदन

हेल्पलाइन नंबर:

इस लेख के माध्यम से हम आपके साथ सभी जानकारी साझा कर रहे है, यदि आपके मन में और अधिक प्रश्न है, तो आप कॉमेंट करके पूछ सकते है, 

विभाग का हेल्पलाइन नंबर है,

Dr Ambedkar Foundation,15, Janpath, New Delhi-110 0001 (India)

Telephone; 91-11-23320571, 23320576

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की समीक्षा ( review)

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के माध्यम से सरकार समाज में समरसता लाना चाहती है, जातिवाद हमारे  समाज में चरम पर है, यदि कोई स्वर्ण समाज का युवक गैर जाति के युवती से शादी कर लेता है, तो समाज उसे अच्छी दृष्टि से नही देखता है, और परिवार वाले भी उस विवाह को मान्यता नहीं देती है। सरकार की नीति इसी समस्या को खत्म करने की है। सरकार का उद्देश्य जातीयता बंधन को तोड़ने का है।

झारखंड फसल राहत योजना ऑनलाइन फॉर्म
पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना
सारथी परिवहन सेवा
सारथी परिवहन सेवा ड्राइविंग लाइसेंस

बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना से संबंधित सवाल जवाब (FAQ)

Q 1. बिहार अंतर्जातीय विवाह योजना क्या है?

Ans; यह बिहार राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई योजना है, जिसका उद्देश्य विवाह में जातीय बंधन को खत्म करना है, समाज में  सभी लोग पहले इंसान है, फिर जातीय समीकरण आता है, बाबा भीम राव अंबेडकर जी ने आरक्षण लाकर सबसे पहले सभी जाति को एक करने की कोशिश की है।

Q 2. बिहार अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना में कितने रुपए की प्रोत्साहन राशि मिलता है?

Ans;  जैसा कि ऊपर में आर्टिकल के माध्यम से बताया गया है, की इस योजना में 2 लाख 50 हजार रुपए की वित्तीय सहायता दी जाती है।

Q 3. इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

Ans; इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट Ambedkar Foundation.nic.in है।

1 thought on “बिहार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना | उद्देश्य, लाभ, ऑनलाइन आवेदन |”

  1. I constantly emaile this blog post pagge to alll
    my associates, foor the reason that iff like tto rewd it aftedr that my friends will too.

Comments are closed.