प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर-हिंदी PDF Free Download

प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर -हिंदी PDF। Prerit Karne ke Mission Par Agrsar In Hindi PDF Free Download

प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर -हिंदी PDF। Prerit Karne ke Mission Par Agrsar In Hindi PDF Free Download

लेखक: सोनू शर्मा

काल्पनिक और वास्तविक अनुभवों पर आधारित

सोनू शर्मा:

प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर) लगभग 40 वर्षीय सोनू शर्मा आज एक कुशल वक्ता, लेखक,ब्लॉगर, जाने माने मोटिवेशनल स्पीकर ,व्यापार सलाहकार है। ये नेटवर्क मार्केटिंग से भी काफी समय से जुड़े है। लगातार सेमिनार्स,मीटिंग्स,ऑनलाइन और ऑफलाइन मीडिया के थ्रू युवाओं और जरूरतमंदों से जुड़े रहते है।इन्होंने कई सारे लेक्चर्स भी दिए है जो मेनली युवाओं को आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनाने के तरीकों पर फोकस्ड है।इनकी कई सारी पुस्तके भी प्रकाशित हो चुकी है ।

यह पुस्तक #bestseller रह चुकी है ।तथा काफी लोगो के द्वारा इसे सराहा गया है ।

पुस्तक : प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर

लेखक : सोनू शर्मा

पुस्तक की भाषा : हिंदी

पेज : 200

सारांश और कुछ कहानियां

प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर-हिंदी इसमें ज्यादातर कहानियों के माध्यम से अपने निजी अनुभवों को पाठको के सम्मुख प्रस्तुत किया गया है।कहानियां मुख्यत लघु है और दैनिक उदाहरणों पर बेस्ड है।जिससे हर वर्ग और उम्र का पाठक इसे बिना किसी अधिक  दिमागी मेहनत के समझ सकता है ।

कुछ अंश

           खुश रहिए

“हम सब जानते हैं की पैसे से ख़ुशी नही खरीदी जा सकती…मगर अक्सर हम ऐसे बर्ताव करते हैं की अगर हमारे पास थोडा और पैसा होता तो हम ज्यादा खुश होते ।अमीर बनने की चाह हमारे अन्दर पैदा की जाती है (जबकि हम जानते हैं कि अमीर भी खुश नही हैं) हमे ट्रेन कराया जाता है उस आधुनिक गैजेट को पाने की चाह रखने के लिए या टीवी पर दिखाए उस नए स्टाइल को अपनाने के लिए हम ज्यादा कमाना चाहते हैं ,ताकि हम एक बेहतर जिंदगी जी सकें ।मगर इस सब से हमे ख़ुशी नही मिल सकती ।चाहे हम जितना कमा लें ।चाहे हमारे बैंक में कितने ही पैसे आ जाए।चाहे हमारे कपड़े, कार या खिलौने कितने ही अच्छे हो जाए।, ये सब हमे ख़ुशी नही दे सकते।”

कुछ प्रमुख सलाह जो हमारे दैनिक परेशानियों से निपटने में कारगर साबित हो सकती है।

  • खुश रहिए

प्रेरित करने के मिशन पर अग्रसर ) आपके पास जो भी है उसी में संतुष्ट रहिए ।किसी के वर्तमान को देखकर अपने वर्तमान को खराब मत कीजिए ।

आज के युवा बिना कुछ सोचे समझे ही दूसरो के लाइफस्टाइल फैशन लाइमलाइट को फॉलो करने लग जाते है जो काफी हद तक उनके व्यक्तित्व पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।

कभी भी किसी बात को लेकर मत बैठिए।हमेशा छोटी छोटी बातों में खुशी ढूंढिए तथा उसे सेलिब्रेट कीजिए।खुशियां पैसों से नही खरीदी जा सकती है आप केवल संसाधन खरीद सकते है जैसे की अच्छा घर, मोबाइल, टीवी,कपड़े ,भोजन ,ड्रिंक्स, cars ,फ्लैट etc। मगर जब आप अंतरिक रूप से उस पल को एंजॉय करने के लिए तैयार होगे तभी आप इसका पूर्ण इस्तेमाल कर सकते है।आप आलीशान बिस्तर तो खरीद सकते है मगर सुकून से भरी फुरसत की नींद नही।

  • जुनून और जिम्मेदारियां

हमेशा कुछ नया सीखने और करने की कोशिश कीजिए।अपनी नैतिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करने की भरपूर कोशिश करे।छोटे छोटे लक्ष्य बनाए तथा उन्हें पूरा कीजिए।छोटे छोटे लक्ष्य ही बडी सफलता की सीढ़ी है।अपने जुनून को आग को एक सही दिशा में जलाए।जो आपके खुद के ,समाज के,आपके घर परिवार के काम आए।

  • अपने परिवारके साथ वक्त बिताए।

आजकल के युवा बदलती हुई जीवन शैली के कारण बचपन से ही अपने माता -पिता, दादा -दादी, नाना- नानी आदि से दूर होते जा रहे है चाहे हॉस्टल और एजुकेशन सिस्टम हो या फिर अर्बेनाइजेशन या एकाकी परिवार की वजह से  या फिर टेक्नोलॉजी के प्रभाव से।

आजकल तो अपने वृद्ध माता पिता को वृद्धाश्रम में रखने का नया फैशन सा आ गया है।आजकल के युवा अपने परिवार माता पिता से लगातार दूर होते जा रहे है चाहे वह लगातार अथाह पैसा कमाने की भूख के कारण हो या फिर वक्त की कमी या फिर भागम भाग ज़िंदगी।

लेखक कहता है, हमे वक्त रहते समय पर “मैं तुम्हे प्यार करता हू।” की अहमियत और अपनों को समय देना कितना ज़रूरी है, सिख लेना चाहिए। जीवन में परिवार से बड़के कुछ नही है| उन्हें वो वक़्त दीजिए। जिस पर उनका हक़ है,

क्योंकि ये वो चीज़ें हैं जो फिर कभी पर नही टाली जा सकती है।

  • क्षमा करो और भूल जाओ

नेकी कर और दरिया में डाल ।

  •  तकलीफों का सामना सकारात्मकता से करे।

इसमें एक कहानी है जिसमे एक गधा है और एक किसान।गधा एक दिन कुएं में गिर जाता है ।तब किसान बिना घबराए लोगो को बताता है की उसका गधा कुएं में गिर गया है अब उसे दफन कर दें चाहिए। फिर सब लोग उस कुएं में मिट्टी डालने लगते है ।कुछ देर बाद गधा उसी डाली गई मिट्टी के सहारे ऊपर निकल आता है।और इस तरह किसान ने अपनी सोच से उस गधे की जान बचा लेता है।

लेखक के मुताबिक , “यही ज़िंदगी है! हमें अपनी तकलीफों का सामना करना चाहिए और उनका सकारात्मकता से हल निकालना चाहिए,और डर,

कड़वाहट और अफ़सोस को जगह नही देनी चाहिए।”

  • ईमानदारी और बेहतर आत्मविश्वास

आपमें दुनिया के नहीं को हां में साबित करने का सकारात्मक आत्म विश्वास होना चाहिए। अति उत्साह और जल्दबाजी से बचके कार्यों का निष्पादन करना चाहिए ।

अपने कमियों को ईमानदारी से स्वीकार करना चाहिए तथा उनसे सीखते रहना चाहिए ।

  • अपने सपने संजोए

सपने देखने का अधिकार और सुविधा सभी को समान रूप से मिला है। कोई कहीं तक सोच पाता है और कोई कहीं और तक।

अपने सपने को पूरा करने का पूर्ण प्रयत्न करना चाहिए।

       “किसी को अपने सपने छीनने ना दें ।

         अपने दिल की सुनें, चाहे जो हो।।”

  • अपनी चिंताओं को जाने दे

एक मनोवैज्ञानिक एक पानी से भरे ग्लास के उदाहरण से एक लेक्चर में लोगो को समझता है , कि जैसे एक ग्लास है अगर हम उसे कुछ मिनट तक पकड़ेंगे तब वह कम दर्द देगा मगर जैसे ही हम उस ग्लास को पकड़ने के समय को बढ़ाते जायेगे उतना अधिक कष्ट होगा ।ठीक उसी तरह हमे अपने जीवन में आने वाले चिंतायो और दुख के बारे में ज्यादा नही सोचना चाहिए क्युकी जितना ज्यादा हम इनके लिए परेशान होगे उतना ज्यादा ये हमे दर्द देगी।और हमे अपने अनुसार नचायेगी।

  • मुस्कुराते रहिए ।
  •  प्यार और पागलपन के बीच के फर्क को समझिए।
  •  उन्हे याद रखिए जिन्होंने आपका बुरे वक्त में साथ दिया है ।
  •  चीजों में फर्क करना सीखिए।
  • नजरिया समय,वक्त और परिस्थिति के मुताबिक रखिए।
  • अपनी कमजोरी और ताकत को खोजिए तथा उन्हें एडजस्ट करना सीखिए।

इस पुस्तक में कई सारे महान व्यक्तियों के बारे में बताया गया है जैसे,

  • डेल कंप्यूटर कॉर्पोरेशन के माइकल डेल
  • स्टीव जॉब्स एप्पल इन कॉर्पोरेशन
  •  एंड्रू कारनेज स्टील किंग
  • थॉमस अल्वा एडीसन
  • अपोलो 13 मिशन
  • वाल्ट डिज्नी मिक्की माउस कार्टून

और भी कई सारे किस्से और कहानियां

रिव्यू

खुद पुस्तक के अंत मे लेखक सोनू शर्मा ने इस पुस्तक को पढ़ने की वाजिब वजहों का जिक्र किया है।वे लिखते है

 “हर किसी को कभी न कभी बुरे दौर से गुज़रना पड़ता है।अब आप बजाय इन्टरनेट पर प्रेरणादायक कहानियां ढूूंढने या अपने

ग़मों को जीतने के लिए बेकार के यत्न करने की जगह इन प्रेरक कहाननयों को पढ़े।जब भी जिंदगी आपको दुुःख दे, इन प्रेरणादायक लघु कहानियों को पढ़े। इन्हें पढ़ना ना सिर्फ आत्मा के लिए भोजन समान है बल्कि यह आपको कुछ नया करने या सुझाने में सहायक हो सकती हैं आपको बेहतर बनाने के लिए।”

पढ़िए और मुस्कुराने के लिए तैयार हो जाइये।”

PDF डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करे

Leave a Comment