रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Ramcharitmanas pdf Download free

रामचरित्रमानस  ramcharitmanas pdf हिन्दू धर्मग्रंथो में सर्वाधिक लोकप्रिय ग्रन्थ है | शायद की कोई ऐसा हिंदू हो जिसके घर में यह पुस्तक उपलब्ध ना हो | बड़े बड़े राजमहलों से लेकर गरीब की कुटिया तक गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस ramcharitmanas pdf हिंदी पुस्तक ( Goswami Tulsidas writen  Ramcharitmanas ) को बड़े ही श्रद्धा भाव से पढ़ा जाता है और इसे ईश्वर मानकर इसकी पूजा भी की जाती है |पतंजलि योग सूत्र

रामचरित्रमानस की रचना किसने की who wrote ramcharitmanas pdf / ramcharitmanas kiski rachna hai ?

 

श्री रामचरित्रमानस की रचना 16 वी शताब्दी में गोस्वामी तुलसीदास जी के द्वारा की गयी |

rich dad poor dad in hindi pdf

ramcharitmanas mein kitne kand hai ?

 

श्री रामचरित्र मानस ramcharitmanas pdf में 7 अध्याय है इसे ७ कांड भी कहा गया है जो की क्रमशः है-

  1. बालकाण्ड 
  2. अयोध्याकाण्ड 
  3. अरण्यकाण्ड 
  4. किष्किन्धाकाण्ड 
  5. सुन्दरकाण्ड 
  6. लंकाकाण्ड 
  7. उत्तरकाण्ड 

गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरितमानस हिंदी पुस्तक के बारे में  | about Goswami Tulsidas writen  ramcharitmanas pdf- 

 

Book Name गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Goswami Tulsidas writen  Ramcharitmanas Hindi Book
Author गोस्वामी तुलसीदास Goswami Tulsidas
Category Religious
Quality Very Good
Pages 465
Language Hindi
Size 4 MB

 

श्रीरामचरितमानस Ramcharitmanas का स्थान हिंदी साहित्य में ही नहीं , सम्पूर्ण जगत के  साहित्य में निराला और बेजोड़ है । इसके जोड़ का ऐसा ही सर्वाङ्गसुन्दर , उत्तम काव्यके लक्षणोंसे युक्त , साहित्यके सभी अनुपम रसों  का पान  कराने वाला , काव्यकलाकी दृष्टिसे भी सर्वोच्च कोटिका तथा आदर्श गृहस्थ जीवन , आदर्श राजधर्म , आदर्श पारिवारिक जीवन , आदर्श पातिव्रतधर्म , आदर्श भ्रातृधर्म के साथ – साथ सर्वोच्च भक्ति भाव , ज्ञान , त्याग , वैराग्य तथा सदाचारकी शिक्षा देनेवाला , स्त्री – पुरुष , बालक – वृद्ध और युवा- सबके लिये समान उपयोगी एवं सर्वोपरि सगुण साकार भगवान्‌की आदर्श मानवलीला तथा उनके गुण , प्रभाव , रहस्य तथा प्रेमके गहन तत्त्वको अत्यन्त सरल , गेचक एवं ओजस्वी शब्दोंमें व्यक्त करनेवाला कोई दूसरा ग्रन्थ हिंदी भाषा में ही नहीं , शायद संसारकी किसी भाषामें आजतक नहीं लिखा गया और ना ही लिखा जाएगा । यही कारण है कि जितने चाव और सम्मान से गरीब अमीर , शिक्षित – अशिक्षित , गृहस्थ – संन्यासी , स्त्री – पुरुष , बालक – वृद्ध – सभी श्रेणीके लोग इस ग्रन्थरत्न पुस्तक को पढ़ते हैं , उतने चावसे और किसी ग्रन्थको नहीं पढ़ पाते  और भक्ति , ज्ञान , नीति , सदाचारका जितना प्रचार जनता में इस ग्रन्थसे हुआ है , उतना शायद ही किसी अन्य ग्रन्थ से हुआ होगा ।

अन्य किताबे-

    1.  श्रीमद्भगवद्‌गीता | Shrimad Bhagwat Geeta in Hindi PDF

श्रीरामचरितमानस (Ramcharitmanas pdf) के सम्बन्ध में विद्वानों में मतभेद –

 

जिस ग्रन्थ का जगत्‌में इतना मान और सम्मान हो , उसके अनेकों संस्करणों का छपना तथा उसपर अनेकों टीकाओं का लिखा जाना स्वाभाविक ही होता है । इसी के कारण श्रीरामचरितमानस (गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Goswami Tulsidas writen Ramcharitmanas Hindi) के भी आजतक अनेकों संस्करण छप चुके हैं । इसपर सैकड़ों ही टीकाएँ लिखी जा चुकी हैं । रामायण के संस्करण अब तक अनेको भाषाओं में आ चुके है । अबतक अनुमानतः इसकी कई लाखों प्रतियाँ छप चुकी होंगी । आये दिन इसका एक – न एक नया संस्करण देखनेको मिलता है और उसमें अन्य संस्करणोंकी अपेक्षा कोई – न – कोई विशेषता अवश्य ही छिपी रहती है । पतंजलि योग सूत्र patanjali yoga sutras pdf

 श्रीरामचरितमानस Ramcharitmanas के पाठ (ramcharitmanas chaupai) के सम्बन्ध में भी रामायण के अनेको विद्वानों में बहुत मतभेद है , यहाँ तक कि कई स्थानों  में तो प्रत्येक चौपाईमें एक – न – एक पाठ भेद अनेक  संस्करणों में भी  मिलता है । जितने पाठभेद इस ग्रन्थके मिलते हैं , उतने कदाचित् और किसी प्राचीन ग्रन्थके इससे भी इसकी सर्वोपरि लोकप्रियता सिद्ध होती है ।

श्रीरामचरितमानस (Ramcharitmanas pdf in Hindi pdf) एक आशीर्वादात्मक ग्रन्थ –

 

इसके अतिरिक्त श्रीरामचरितमानस एक आशीर्वादात्मक ग्रन्थ भी है । इसके प्रत्येक पद्य (चाहे वो चौपाई हो अथवा छंद ) को श्रद्धालु लोग किसी मंत्र के जैसा आदर देते हैं और इसके पाठ से लौकिक एवं अलौकिक अनेक कार्य सिद्ध करते हैं । यही नहीं , इसका श्रद्धापूर्वक पाठ करने तथा इसमें आये हुए उपदेशोंका विचारपूर्वक मनन करने एवं उनके अनुसार आचरण करनेसे तथा इसमें वर्णित भगवान्‌की मधुर लीलाओंका चिन्तन एवं कीर्तन करनेसे मोक्षरूप परम पुरुषार्थ भगवान एवं उससे भी बढ़कर भगवान के प्रेम की प्राप्ति आसानी से की जा सकती है । 

जिस ग्रन्थकी रचना गोस्वामी तुलसीदासजी जैसे अनन्य राम भक्त के द्वारा की गयी हो  , जिन्होंने भगवान् श्रीसीतारामजी की कृपासे उनकी दिव्य लीलाओंका प्रत्यक्ष अनुभव करके यथार्थ रूपमें वर्णन किया है , साक्षात् भगवान् श्रीगौरीशंकरजी की आज्ञा से हुई तथा जिसपर उन्हीं भगवान ने  ‘ सत्यं शिवं सुन्दरम् ‘ लिखकर अपने हाथसे सही की , उसका इस प्रकारका अलौकिक प्रभाव कोई आश्चर्य की बात नहीं है । ऐसी दशा में इस अलौकिक एवं दिव्य ग्रन्थका जितना भी प्रचार किया जायगा , जितना अधिक पठन – पाठन (ramcharitmanas chaupai) एवं मनन – होगा , उतना ही संसार का कल्याण  होगा- इसमें बिलकुल भी संदेह नहीं है । 

वर्तमान समयमें तो , जब सर्वत्र हाहाकार मचा हुआ है , सारा संसार दुःख एवं अशान्तिकी भयंकर आग  से जल रहा है , विश्व के कोने – कोने में मार – काट मची हुई है और प्रतिदिन हजारों मनुष्योंका विनाश हो रहा है , करोड़ों अरबोंकी सम्पत्ति एक – दूसरेके विनाश के लिये काम में ली  जा रही है , विज्ञान की सारी शक्ति पृथ्वीको समाप्त करने में लगी हुई है , संसारके बड़े से बड़े मस्तिष्क संहार के अनेको साधनोंको ढूंढ़ निकालनेमें व्यस्त हैं , संसार में  सुख – शान्ति एवं प्रेमका प्रसार करने तथा ईश्वर कृपा का जीवनमें अनुभव करने के लिये रामचरितमानसका पाठ एवं अनुशीलन बहुत जरूरी हो गया है ।

रामचरितमानस हिंदी पुस्तक ramcharitmanas in hindi pdf Free Download

1 thought on “रामचरितमानस हिंदी पुस्तक | Ramcharitmanas pdf Download free”

Leave a Comment

Your email address will not be published.